ममता का आँचल दे

ढूढ़ा बाग़ बहुत पर वो फूल न चुन सकी जो फूल चढ़ाऊ माँ तुझ पर तेरा द्वार न पा सकी अब तक मै भटक रही हूँ मै दर -बदर मुझ…
View Post

।। मानव जीवन का लक्ष्य।।

जीवन प्राप्ति का उद्देश्य है क्या, किस पथ पे इसे ले जाना है, यह होता एक प्रबल मंथन, किस प्रकार इसे पार लगाना है ।। 1 ।। किस हेतु मिला…
View Post