मित्रता पर निहाल सिंह की कविता

88

निम्नलिखित कविता मित्रता पर निहाल सिंह द्वारा लिखी गई है।
आशा है आप सभी को अच्छा लगा होगा।

नदियाँ की धार है मित्रता
तट है, मझधार है मित्रता
निकृष्ट सी है, मंजुल सी है
झगड़ा है, प्यार है मित्रता

अमवा से भी मीठी है ये
परवल से भी कड़वी है ये
लगती है आसव के जैसी
इमली से भी खट्टी है ये

फूलों की तरह महकती है
कंटियो की तरह चुभती है
गूंजती है अलिंद की तरह
तितलियों की तरह उड़ती है

बारिश का निर्मल पानी है
शीतल हवा की रवानी है
खेतों में लहराती धानी
फसलों कि जैसी सुहानी है

धरणीधर से भी ऊॅंची है
रचनाकार से भी गहरी है
कभी दिवा से भी है छोटी
कभी तमी से भी लम्बी है

निहाल सिंह, झुन्झुनू ,राजस्थान
Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।