शिखरिणी छंद – भारत वंदन

शिखरिणी छंद – भारत वंदन बड़ा ही प्यारा है, जगत भर में भारत मुझे।सदा शोभा गाऊँ, पर हृदय की प्यास न बुझे।।तुम्हारे गीतों को, मधुर सुर में गा मन भरूँ।नवा…
View Post

स्रग्धरा छंद – शिव स्तुति

स्रग्धरा छंद – शिव स्तुति शम्भो कैलाशवासी, सकल दुखित की, पूर्ण आशा करें वे।भूतों के नाथ न्यारे, भव-भय-दुख को, शीघ्र सारा हरें वे।।बाघों की चर्म धारें, कर महँ डमरू, कंठ…
View Post

हरिणी छंद – राधेकृष्णा नाम-रस

हरिणी छंद – राधेकृष्णा नाम-रस मन नित भजो, राधेकृष्णा, यही बस सार है।इन रस भरे, नामों का तो, महत्त्व अपार है।।चिर युगल ये, जोड़ी न्यारी, त्रिलोक लुभावनी।भगत जन के, प्राणों…
View Post

अनुष्टुप छंद – गुरु पंचश्लोकी

अनुष्टुप छंद – गुरु पंचश्लोकी| सद्गुरु-महिमा न्यारी, जग का भेद खोल दे।वाणी है इतनी प्यारी, कानों में रस घोल दे।। गुरु से प्राप्त की शिक्षा, संशय दूर भागते।पाये जो गुरु…
View Post

हाइकु कैसे लिखें

हिंदी में हाइकु कविता — डॉ. जगदीश व्योम हिंदी साहित्य की अनेकानेक विधाओं में ‘हाइकु’ नव्यतम विधा है। हाइकु मूलत: जापानी साहित्य की प्रमुख विधा है। आज हिंदी साहित्य में हाइकु की…
View Post

देव स्तुति छंद हरिगीतिका | Dev Stuti-Chhand Harigeetika

शुचिगौरवर्णीहिमसुताहर नीललोहितशंकरं . भुवनेशभद्रंभगवतीमाँ रूपराशिमनोहरं . प्रभुशीशगंगा पापनाशिनि अम्बिकाद्वैपूजितं . शरणागतं सर्वेश्वरंशिव शैलजासुरवंदितं ..
View Post