ममता का आँचल दे

ढूढ़ा बाग़ बहुत पर वो फूल न चुन सकी जो फूल चढ़ाऊ माँ तुझ पर तेरा द्वार न पा सकी अब तक मै भटक रही हूँ मै दर -बदर मुझ…
View Post