Dur

Tujhe ilm n tha , human ehsas Acha lga Jitna Mai tujhmai khoti gyi utna hi Tu dur HOTA rha Mera to Sacha tha prr uska jhuta nikla Hum to…
View Post

Kavya by Subhash Singh

जनता नेता और जनता की ये कैसी आंखमिचोली है की नेता कितने घाग जनता कितनी भोली है दोनों ही इस बात को बखूबी जानते है पर कोई आदत से मजबूर…
View Post

मंत्री जी पर आधारित कविता

मंत्री जी पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है। मंत्री जी ओ मंत्री जी मुँह उठा कर कहाँ चले धोती कुर्ता पहन के टोपी धूल उड़ाकर कहाँ चले…
View Post

जुगनू by Devesh Dikshit

जुगनू होता है ऐसा कीट जो बनता है सबका मीत पल-पल में है जलता-बुझता ऐसी है इसकी तकदीर आधे इंच का ये अद्भुत कीट प्रभु ने बनाया ये कैसा जीव…
View Post

नारी दिवस – Women’s day kavita

नारी दिवस पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है। नारी दिवस के महत्व को समझो मेरे यार नारी से ही है सृष्टि इसका करो सम्मान यदि न होती…
View Post

जन्माष्टमी पर आधारित कविता

जन्माष्टमी पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है। बाल कृष्ण मुरली मनोहर जब भी खेल रचाएं एक सबक होता उसमें फिर परमानंद मनाएं प्रत्येक जीव उनकी धरोहर उन…
View Post

धार छंद – आज की दशा

धार छंद “आज की दशा” आधारित कविता बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ द्वारा लिखी गयी है। अत्याचार।भ्रष्टाचार।का है जोर।चारों ओर।। सारे लोग।झेलें रोग।हों लाचार।खाएँ मार।। नेता नीच।आँखें मीच।फैला कीच।राहों बीच।। पूँजी जोड़।माथा…
View Post

Poet Ravidra Prabhat

Nam ut rutrum ex, venenatis sollicitudin urna. Aliquam erat volutpat. Integer eu ipsum sem. Ut bibendum lacus vestibulum maximus suscipit. Quisque vitae nibh iaculis neque blandit euismod. Maecenas sit amet…
View Post