देव स्तुति छंद हरिगीतिका | Dev Stuti-Chhand Harigeetika

1031
0

शुचिगौरवर्णीहिमसुताहर नीललोहितशंकरं .

भुवनेशभद्रंभगवतीमाँ रूपराशिमनोहरं .

प्रभुशीशगंगा पापनाशिनि अम्बिकाद्वैपूजितं .

शरणागतं सर्वेश्वरंशिव शैलजासुरवंदितं ..

Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply