पहला सुख निरोगी काया – हिंदी कविता

1927
0
hindi Sahitya Text Banner

Pehla sukh Nirogi Kaya – Hindi Poetry

इस कविता को प्रतिभा तिवारी ने हमारे फेसबुक पेज पर शेयर किया है। इसे पढ़ने का आनंद लें।

पहला सुख निरोगी काया,
दूजा सुख घर में हो माया।

तीजा सुख कुलवंती नारी,
चौथा सुख पुत्र हो आज्ञाकारी।

पंचम सुख स्वदेश में वासा,
छठवा सुख राज हो पासा।

सातवा सुख संतोषी जीवन ,
ऐसा हो तो धन्य हो जीवन।

Pratibha Tewari/Chetan Pandey F.B.
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply