भूल गये मितवा

6
0

भूल गये मीतवा, तुम्हें याद नही कल,
जो बिताये थे , साथ मैं हमने पल,
छोड़ गये यू, अंधेरी रात मै हमको,
बची रोशनी भी छीन ले गये तुम,
भूल गये पल वो, याद रहा बस कल,

हैं बस एक गुजारिश ये तुमसे ,
और जख्म न देना टूट गये हम,
याद न रहा तुम्हें वादा, पर गिला नहीं कोई,
भूल गये बातें, पर शिकवा नहीं कोई,
जख्म और कर गये, भूल गये दर्द,
भूल गये पल वो, याद रहा बस कल।

Read More:
101+ Best Collection of Rahat Indori Shayari (Updated)

Hindi Sahitya
WRITTEN BY

Hindi Sahitya

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply