101+ Best Collection of Rahat Indori Shayari (2022 Updated)

284
rahat-indori-banner

फिर से आप सभी का स्वागत है। आज हम राहत इंदौरी शायरी का सबसे अच्छा संग्रह प्रदर्शित कर रहे हैं।

राहत इंदौरी, जैसा कि सभी जानते हैं, भारत के जाने-माने लेखक, कवि हैं। उन्होंने कई शायरी, कविताएँ और गज़लें भी लिखी हैं। और हम जानते हैं कि उनमें से कुछ दुनिया भर में बहुत लोकप्रिय हैं।

हम उनके कुछ बेहतरीन शायरी संग्रह साझा कर रहे हैं जिन्हें आपको कभी भी पढ़ने और अपने दोस्तों और सभी के साथ साझा करने की आवश्यकता होगी। तो चलिए सबसे अच्छे राहत इंदौरी के संग्रह के साथ शुरू करते हैं।

Rahat Indori Shayari in Hindi

फूलो की दुकान खोले खुशबू का व्यापार करो
इश्क खाता है तो इसे एक बार नहीं सौ बार करो।

अचानक बांसुरी से दर्द की लहरी है,
गुजरती है जो राधा पर वो गिरधारी समझौता है।

यूं तो हर फूल पर लिखा है की तोड़ो मत,
दिल मचाता है तो कहता है छोड़ो मत।

इश्क में पित्त का आने को काफ़ी हूं,
मैं निहत्था ही जमाने के लिए काफ़ी हूं।

क्या खरीदोगे ये बाजार बहुत महंगा है,
प्यार की जिद ना करो, प्यार बहुत महंगा है।

मैंने अपनी ख़ूबसूरत आँखों से लहू छिलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझे पानी चाहिए।

आपको यह भी पसंद आ सकता हैं Yaad kiya karte hai

राहत इंदौरी की लव शायरी | Love Rahat Indori Shayari

राहत इंदौरी द्वारा लिखित कुछ प्रेम शायरी का आनंद लें।

ये हदसा तो किसी दिन गूजरने वाला था,
मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था।

Rahat indori love shayari
Rahat Indori Shayari on Love

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यह हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

इश्क में जीत के आने के लिए काफ़ी हूं,
मैंने अकेला ही जमाने के लिए काफ़ी हूं।

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 2 लाइन | 2 Lines Rahat Indori Shayari in Hindi

राह में खतरे भी हैं लेकिन थहरता कौन है मौत कल आती है,
आज आ जाए, डरता कौन है।

तेरे लश्कर के मुकाबिल मैं अकेला हूं,
मगर फैसला मैदान में होगा के मरता कौन है।

मेरे हुजरे में नहीं और कहीं पर रख दो,
आसमा लाए हो ले आओ ज़मी पर रख दो।

अब कहां ढूंढ़ने जाएंगे हमारे कातिल,
आप तो कत्ल का इल्जाम हमी पर रख दो

उसे जिस ताक़ पे कुछ टूटे दिए रखे हैं,
चाँद तारो को भी ले जाके वही पर रख दो।

हर हकीकत को मेरी ख़्वाब समझने वाले,
मैं तेरी नींद उड़ने के लिए काफ़ी हूं।

मेरे बच्चों मुझे दिल खोल के तुम खर्च करो,
मैं अकेला ही कामने के लिए काफ़ी हूं।

एक अखबार हूं औकत ही क्या मेरी,
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूं।

चांद एक टूटा हुआ टुकड़ा मेरे जाम का है,
और मेरा कौल नहीं हजरत ए खय्याम का है।

हम से पुछो के ग़ज़ल माँगती है,
कितना लहूब समझते हैं ये धंधा बड़े आराम का है

अब तेरी बारी है आया,
बचा ले अपने मेरे हाथों में जो पत्थर है तेरे नाम का है।

प्यासा अगर मेरी बुझा दे तो मैं जानू,
वरना तू समंदर है तो होगा मेरे किस काम का है।

सियासत में जरूरी है रवादारी समझौता है,
वो रोजा तो नहीं रखता पर आफत समझता है।

Rahat indori shayari bansuri

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन | 4 Lines Rahat Indori Shayari

अजीब लोग है मेरी तलाश में मुझको,
यहा पर ढूंड रहे हैं जहां नहीं हूं,
मैं अरबी से मायुस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसी हु में।

Read More:
Kavya by Subhash Singh
Yaad kiya karte hai

Rahat Indori Shayari in English

कुछ लोग शायरी को हिंदी में पढ़ना और share करना पसंद करते हैं लेकिन अंग्रेजी में लिखा जाना पसंद करते हैं। पेश है उन लोगों के लिए कुछ खास राहत इंदौरी शायरी।

Aapki nazron mein suraj ki hai jitni azmat,
Hum charagon ka bhi utna hi adab karte hain.

Apni Pehchaan mitaane ko kaha jata hai,
Bastiyaan chhod ke jaane ko kaha jata hai

Pattiyaan roz gira jaati hain zehreeli hawa,
Aur humein ped lagaane ko kaha jata hai.

Suraj sitaare chaand mere sath me rahe,
Ab tak tumhaare haath mere hath rahe.

Shaakhon se toot jaayein wo patte nahi hai,
Hum Aandhi se koi keh de ke aukaat me rahe.

Jhuthon ne jhuthon se kaha hai,
Sach bolo Sarkaari elaan hua hai sach bolo.

Ghar ke andar jhuthon ki ek mandi hai,
Darwaaze par likha hua hai sach bolo.

Guldaste par yakjahti likh rakha hai,
Guldaste ke andar kya hai sach bolo.

Ganga maiyya doobne waale apne the,
Naav me kisne chhed kiya hai sach bolo.

Ab jo baazaar mein rakhe hain to hairat kya hai.
Jo bhi dekhega wo puchega ke qeemat kya hai.

Maine pehle hi kaha tha ke safein thik karein,
Ab agar haar ke baithe hain to hairat kya hai.

Unche-unche darbaaron se kye lena,
Nange bhooke bechaaron se kya lena.

Apna maalik apna khaalik afzal hai,
Aati-jaati sarkaaron se kya lena.

Saath hamaare kai sunehri sadiyaan hain,
Humein sanichar-itwaaron se kya lena.

Paanv pasaaro saari dharti apni ha,
Yaar ijaazat makkaaron se kya lena.

Zindagi kya hai khud hi samajh jaoge,
Baarishon mein patange udaya karo.

Ungliyaan yun na sab par uthaya karo,
kharch karne se pehle kamaaya karo.

Shaam ke baad tum jab seher dekhlo,
Kuch Fakeeron ko khaana khilaya karo.

Doston se mulakat ke naam par,
Neem ki pattiyon ko chabaya karo,
Chand suraj kahan apni manzil kahan,
Aise Waison ko moo math lagaya karo.

Mujhme kitne raaz hain batlaun kya,
Band ek muddat se hoon khul jaun kya,

Aajizi, minnat, khushamad, ilteja
Aur main kya, kya karu, mar jaun kya,

ek pathhar hai wo meri raah ka,
Agar na thukraun to thokar khaun kya,

Phir jagaaya tune soye sher ko,
Phir wahi lehja daraazi, aaun kya.

Insaan zaalimo ki hamaayat mein jayega,
Ye haal hai to kaun adaalat mein jayega,

Dastaar noch-nach ke ehbaab,
le ude Sar bach gaya hai ye bhi sharaarat mein jayega,

Dozakh ke intezaam mein uljha hai raat din,
Daawa ye kar raha hai ke jannat mein jayega

Khushfehmiyon ki bheed mein tu bhool kyun gaya,
Pehle marega baad mein jannat mein jayega,

Waakif hai khoob jhooth ke fan se ye aadmi,
ye aadmi zarur siyasat mein jayega.

तो यह सब अभी के लिए राहत इंदौरी शायरी के लिए है। नए लेखक और सामग्री के साथ नई पोस्ट के साथ मिलेंगे।
जल्द ही मिलते हैं अगली पोस्ट पर।

Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।