याद किया करते हैं – Yaad kiya karte hai

72
0

जखमों के कटे पर चल कर भी,
तुझे याद किया करते हैं,

तू जवाब दे या ना दे फिर भी,
ऑफलाइन तेरी देखी तो हम इंतजार कर लेते हैं,

मन अब तुम व्हाट्सएप से नहीं,
फोन कॉल से बात किया करते हो,

तुझे तकलीफ ना हो इसिलिए हम,
ऑनलाइन हाय तुझे देख लिया करता है,

जखमों के कटे पर चल कर,
भी तुझे याद किया करते हैं,

तेरी आखिरी मेसेज को देख कर,
अपना स्टेटस अपडेट किया करते हैं,

तू शायद देख कर जवाब दे,
इसिलिए हम ऑफलाइन रहकर भी,
ऑनलाइन हुआ करते हैं,

जखमों के कटे पर चल कर,
भी तुझे याद किया करते हैं।

याद किया करते हैं
याद किया करते हैं

Jakhmon ke katein par Chal kar bhi,
tujhe yad Kiya krte hai,

Tu javab de ya na de phir bhi,
Offline Teri seen tak hum intezar kara krte hai,

Mana ab tum WhatsApp se nhi,
phone Call se baat kiya karte ho,

Tujhe taqleef na ho isiliye hum,
Online hi tujhe Dekh liya karte hai,

Jakhmon ke katein par Chal kar,
bhi tujhe yad Kiya krte hai,

Teri akhiri message ko Dekh Kar,
Apna status update Kiya krte hai,

Tu Shayad Dekh Kar jawaab de,
isiliye hum offline rehkar bhi,
Online hua krte hai,

Jakhmon ke katein par Chal kar,
Bhi tujhe yaad Kiya karte hai.

Unknown
Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply