Kavya by Subhash Singh

जनता

नेता और जनता की

ये कैसी आंखमिचोली है

की नेता कितने घाग

जनता कितनी भोली है

दोनों ही इस बात को

बखूबी जानते है

पर कोई आदत से

मजबूर है

और कोई मजबूरी

से मजबूर है

ये मजबूरी ही तो है

जिस कारन

जनता को नेता की

जीत का जश्न भी मनाना है !

और कोरोना से मरने

वाले अपनों का मातम भी !

दौलत का करिश्मा

वाह री दौलत तेरा करिश्मा भी कैसा करिश्मा  है ? की जिसका अभाव हज़ारों कीमती जिंदगियोंको लील गया !और जिसका बेहिसाब अम्बार भी कुछ तथाकथित वी आई पी जिंदगियों को बचा न सका  !

अकड़

जब तक जिस्म में जान रही तब तक अकड़ आँखों की पहचान रही और जिस्म से जान निकलते ही यह आँखों से तो जाती रही मगर खुद जिस्म की ही पहचान हो गयी

रोशनी

रोशनी की अगर तुम्हे तलाश है तो बाहर मत देखो बाहर तो सिर्फ़ अंधेरा और सिर्फ़ अंधेरा है ढूँढते रह जाओगे और अंधेरो मे गहरे कहीं खो जाओगे तुम्हारे चारों तरफ़ फैला अंधकार तुम्हे डरा देगा रोशनी चाहिए तो अपने अंदर झाँको और चमक उत्पन्न करो वैसे ही जैसे अनंत अंधेरे आकाश मे नन्हा तारा सिर्फ़ अपनी रोशनी के दम पर निडर हो चमकता है

Subhash Singh

और पढ़े

Leave a Reply
You May Also Like

भूल गये मितवा

भूल गये मीतवा, तुम्हें याद नही कल,जो बिताये थे , साथ मैं हमने पल,छोड़ गये यू, अंधेरी रात मै हमको,बची रोशनी भी छीन ले गये तुम,भूल गये पल वो, याद…
View Post

सायली होली

सायली होली काव्य बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ द्वारा लिखित है। आप सभी को होली की खूब शुभकामनायें । होली पावन त्योहार जीवन में लाया रंगों की बौछार। बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’तिनसुकिया होली…
View Post

आल्हा छंद – अग्रदूत अग्रवाल

आल्हा छंद अग्रदूत अग्रवाल अग्रोहा की नींव रखे थे, अग्रसेन नृपराज महान।धन वैभव से पूर्ण नगर ये, माता लक्ष्मी का वरदान।।आपस के भाईचारे पे, अग्रोहा की थी बुनियाद।एक रुपैया एक…
View Post

शिखरिणी छंद – भारत वंदन

शिखरिणी छंद – भारत वंदन बड़ा ही प्यारा है, जगत भर में भारत मुझे।सदा शोभा गाऊँ, पर हृदय की प्यास न बुझे।।तुम्हारे गीतों को, मधुर सुर में गा मन भरूँ।नवा…
View Post

मंत्री जी पर आधारित कविता

मंत्री जी पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है। मंत्री जी ओ मंत्री जी मुँह उठा कर कहाँ चले धोती कुर्ता पहन के टोपी धूल उड़ाकर कहाँ चले…
View Post