Dur

5
0

Tujhe ilm n tha , human ehsas Acha lga

Jitna Mai tujhmai khoti gyi utna hi Tu dur HOTA rha

Mera to Sacha tha prr uska jhuta nikla

Hum to tujhme khote rhe

Pr Tu dur humse HOTA rha


Hindi Sahitya
WRITTEN BY

Hindi Sahitya

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply