Dur

Tujhe ilm n tha , human ehsas Acha lga

Jitna Mai tujhmai khoti gyi utna hi Tu dur HOTA rha

Mera to Sacha tha prr uska jhuta nikla

Hum to tujhme khote rhe

Pr Tu dur humse HOTA rha


Leave a Reply
You May Also Like

भूल गये मितवा

भूल गये मीतवा, तुम्हें याद नही कल,जो बिताये थे , साथ मैं हमने पल,छोड़ गये यू, अंधेरी रात मै हमको,बची रोशनी भी छीन ले गये तुम,भूल गये पल वो, याद…
View Post

न वक्त से हुआ…

न वक्त से हुआ, न गुलजार से हुआ,कलाम तो दुखी जाहान से हुआ,तडप के रह गये खुले परिन्दे के ताराजूखुदा भी उनका गुलाम जो हुआ । न गुल अपना न…
View Post

सुजान छंद (पर्यावरण)

पर्यावरण खराब हुआ, यह नहिं संयोग। मानव का खुद का ही है, निर्मित ये रोग।। अंधाधुंध विकास नहीं, आया है रास। शुद्ध हवा, जल का इससे, हो य रहा ह्रास।।…
View Post

Kavya by Subhash Singh

Table of Contents Hide जनतादौलत का करिश्माअकड़रोशनीऔर पढ़े जनता नेता और जनता की ये कैसी आंखमिचोली है की नेता कितने घाग जनता कितनी भोली है दोनों ही इस बात को…
View Post