न वक्त से हुआ…

न वक्त से हुआ, न गुलजार से हुआ,
कलाम तो दुखी जाहान से हुआ,
तडप के रह गये खुले परिन्दे के ताराजू
खुदा भी उनका गुलाम जो हुआ ।

न गुल अपना न बदन अपना,
न ये कम्बख्त बेगम अपना,
न जाने कैसी मोहब्बत करी हमनें,
रहा न खुद का जालिम दिल भी अपना

और पढ़े..

Leave a Reply
You May Also Like

भूल गये मितवा

भूल गये मीतवा, तुम्हें याद नही कल,जो बिताये थे , साथ मैं हमने पल,छोड़ गये यू, अंधेरी रात मै हमको,बची रोशनी भी छीन ले गये तुम,भूल गये पल वो, याद…
View Post

सुजान छंद (पर्यावरण)

पर्यावरण खराब हुआ, यह नहिं संयोग। मानव का खुद का ही है, निर्मित ये रोग।। अंधाधुंध विकास नहीं, आया है रास। शुद्ध हवा, जल का इससे, हो य रहा ह्रास।।…
View Post

Kavya by Subhash Singh

Table of Contents Hide जनतादौलत का करिश्माअकड़रोशनीऔर पढ़े जनता नेता और जनता की ये कैसी आंखमिचोली है की नेता कितने घाग जनता कितनी भोली है दोनों ही इस बात को…
View Post