जुगनू by Devesh Dikshit

40
0

जुगनू होता है ऐसा कीट

जो बनता है सबका मीत

पल-पल में है जलता-बुझता

ऐसी है इसकी तकदीर

आधे इंच का ये अद्भुत कीट

प्रभु ने बनाया ये कैसा जीव

ज्ञान नहीं इसको अपनी दिव्यता का

यही है इसकी उच्चतम तकदीर

असंख्य मिल जाएं जहां अद्भुत कीट

झिलमिल सा कर दें जैसे असंख्य दीप

मनुष्यों ने सदा लाभ उठाया

बोतलों में बंद कर इनकी तकदीर

स्वच्छंद ही भाते हैं ये कीट

बड़े निराले होते हैं ये जीव

कभी इधर तो कभी उधर चमका

यही है इनके आकर्षण की तकदीर

देवेश दीक्षित

और पढ़े

Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply