जुगनू by Devesh Dikshit

जुगनू होता है ऐसा कीट

जो बनता है सबका मीत

पल-पल में है जलता-बुझता

ऐसी है इसकी तकदीर

आधे इंच का ये अद्भुत कीट

प्रभु ने बनाया ये कैसा जीव

ज्ञान नहीं इसको अपनी दिव्यता का

यही है इसकी उच्चतम तकदीर

असंख्य मिल जाएं जहां अद्भुत कीट

झिलमिल सा कर दें जैसे असंख्य दीप

मनुष्यों ने सदा लाभ उठाया

बोतलों में बंद कर इनकी तकदीर

स्वच्छंद ही भाते हैं ये कीट

बड़े निराले होते हैं ये जीव

कभी इधर तो कभी उधर चमका

यही है इनके आकर्षण की तकदीर

देवेश दीक्षित

और पढ़े

Leave a Reply
You May Also Like

भूल गये मितवा

भूल गये मीतवा, तुम्हें याद नही कल,जो बिताये थे , साथ मैं हमने पल,छोड़ गये यू, अंधेरी रात मै हमको,बची रोशनी भी छीन ले गये तुम,भूल गये पल वो, याद…
View Post

मंत्री जी पर आधारित कविता

मंत्री जी पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है। मंत्री जी ओ मंत्री जी मुँह उठा कर कहाँ चले धोती कुर्ता पहन के टोपी धूल उड़ाकर कहाँ चले…
View Post

Kavya by Subhash Singh

Table of Contents Hide जनतादौलत का करिश्माअकड़रोशनीऔर पढ़े जनता नेता और जनता की ये कैसी आंखमिचोली है की नेता कितने घाग जनता कितनी भोली है दोनों ही इस बात को…
View Post

सायली होली

सायली होली काव्य बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ द्वारा लिखित है। आप सभी को होली की खूब शुभकामनायें । होली पावन त्योहार जीवन में लाया रंगों की बौछार। बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’तिनसुकिया होली…
View Post

आल्हा छंद – अग्रदूत अग्रवाल

आल्हा छंद अग्रदूत अग्रवाल अग्रोहा की नींव रखे थे, अग्रसेन नृपराज महान।धन वैभव से पूर्ण नगर ये, माता लक्ष्मी का वरदान।।आपस के भाईचारे पे, अग्रोहा की थी बुनियाद।एक रुपैया एक…
View Post