नारी दिवस – Women’s day kavita

63
1

नारी दिवस पर आधारित कविता देवेश दीक्षित द्वारा लिखी गयी है।

नारी दिवस के महत्व को

समझो मेरे यार

नारी से ही है सृष्टि

इसका करो सम्मान

यदि न होती नारी तो

कैसे बनता ये संसार

कैसे आती झांसी की रानी

देश की खातिर उठाने तलवार

यदि न होती नारी तो

कहाँ से आते वीर जवान

जो देश की सीमा पर होकर ही

तिरंगे के लिए हुए कुर्बान

नारी अब वो नारी नहीं

जो डरके मुँह छुपाती थी

अब की नारी वो नारी है

जो शक्ति कहलाती है

पीछे हटना भी जिसको मंजूर नहीं

अश्रु बहाना दस्तूर नहीं

कंधे से कंधा मिलाकर चलती है

अपने हक के लिए भी लड़ जाती है

नारी अब चांद-सितारों से दूर नहीं

या जंग का हो मैदान कहीं

डटकर मुकाबला करती है

नारी शक्ति कहलाती है

देवेश दीक्षित

और पढ़े

Sahitya Hindi
WRITTEN BY

Sahitya Hindi

हिंदी साहित्य काव्य संकल्प ऑनलाइन पोर्टल है और हिंदी कविताओं और अन्य काव्यों को प्रकाशित करने का स्थान है। कोई भी आ सकता है और इसके बारे में अपना ज्ञान साझा कर सकता है और सदस्यों से अन्य संभावित सहायता प्राप्त कर सकता है। यह सभी के लिए पूरी तरह से फ्री है।

Leave a Reply

One thought on “नारी दिवस – Women’s day kavita